पारद शिवलिंग

आधुनिक समय में शुद्ध किए गए पारा शिवलिंग को चमत्कार, साधना का सर्वोत्तम रूप और सफलता प्राप्त करने का एक अद्भुत मार्ग माना जा सकता है।

सोने, चांदी, हीरे के गहनों का प्रयोग सभी करते हैं। मानव शरीर पर इन गहनों का अपना महत्व और प्रभाव है। लेकिन पारा जिसे हम तरल रूप में जानते हैं , अब दशकों की मेहनत के कारण, हमारे पास पारा ठोस रूप में है जो अन्य महंगी धातुओं की तरह महंगा नहीं है, लेकिन जीवन में अत्यधिक मूल्य है और कई शारीरिक और मनोवैज्ञानिक बीमारी के इलाज में उपयोगी है। 


पारद शिवलिंग का अर्थ


पारद - पारा (Mercury)


शिव - भगवान शिव


लिंग - जननांग


कैसे करें असली पारद शिवलिंग की पहचान (how to identify original parad shivling?)

पारा प्राकृतिक रूप से काफी जहरीला होता है। अष्ट के संस्कारी होने पर ही वह नित्य पूजा के योग्य बनता है। पारद शिवलिंग असली है या नहीं, इसका पता लगाने के लिए निम्नलिखित विधि का प्रयोग करें:

  • पारद शिवलिंग असली है या नहीं इसको जांचने का सबसे अच्छा तरीका है सोने के साथ रख कर देखना।  अगर पारद शिवलिंग असली है तो वो धीरे धीरे सोने को खा जायेगा या उसको सफ़ेद कर देगा।  


ओपल रत्न आपके लिए क्यों महत्वपूर्ण है?


पारद शिवलिंग के प्रति फैली हुई भ्रांतिया 


1.  आजकल इंटरनेट पर ये बात बड़ी ही तेजी से फेल रही है कि असली  पारद शिवलिंग को अगर ऊँगली पर रब करते है  तो वो अपने पीछे  कालापन नहीं छोड़ता है।  जबकि ये बात एकदम गलत है।  पारद शिवलिंग असली हो या नकली वो कालापन छोड़ेगा ही।  


2.  सूरज कि रौशनी में पारद शिवलिंग गोल्डन दिखाई देना।  इंटरनेट पर ऐसी वीडियो देखने को मिलती है जिसमे दिखाया जाता है कि अगर पारद शिवलिंग को पानी में रखे तो थोड़ी देर में वो ऊपर से गोल्डन दिखाई देने लग जाता है।  जो कि बिलकुल गलत है।  पारद कभी भी अपना रंग नहीं बदलता है।  ये बस एक ट्रिक वीडियो है जो लोगो को बेवकूफ बनाने के लिए बनाई गयी है । 


बाजार में कौन कौन से पारद शिवलिंग मिलते है ?


1.  बाजार में पारद के नाम पर काफी तरफ के शिवलिंग मिलते है जिनमे रांगे का शिवलिंग प्रमुख तोर पर बिकता है ये सबसे सस्ता होता है जो  सामान्य रूप से 4-5 rs प्रति ग्राम मिल जाता है।  ये शिवलिंग लेड का बना होता है जो पारद शिवलिंग बोलकर बेचा जाता है इसके ऊपर एक सिल्वर रंग की परत चढ़ी होती है जो धीरे धीरे अपने आप उतर जाती है और ये नीचे से काला निकल आता है। 


2.  दूसरे नंबर पर आता है कलई का बना हुआ शिवलिंग। कलई लगभग सभी लोग जानते होंगे जो बर्तनो को सफ़ेद करने के लिए इस्तेमाल की जाती है।  जिसे इंग्लिश में tarnish  बोलते है।  रांगे के बाद सबसे जायदा बिकने वाला शिवलिंग कलई का है।  पारद शिवलिंग और कलई से बने शिवलिंग में कोई भी फर्क पता नहीं चलता है  दोनों एक जैसे दिखाई देते है। लेकिन इनके रेट में बहुत बड़ा अंतर है कलई से बना शिवलिंग बाजार में 8-10 rs प्रति ग्राम मिल जाता है।  


3.  रांगे और कलई के बाद जो शिवलिंग बाजार में बिक रहा है वो है एल्युमीनियम से बना हुआ शिवलिंग। ये पहले बाजार में नहीं बिकता था लेकिन जब से पारे के रेट हद से ज्यादा बढे है तब से इसकी सेल भी काफी बढ़ गयी है। 


4.  सबसे आखिर में आते है असली पारद शिवलिंग पर।  इसका रेट इसकी शुद्धता के आधार पर तय होता है जितनी शुद्धता बढ़ती जाएगी उतनी ही इसकी कीमत बढ़ती जाएगी। इसकी कीमत पारे की कीमत के आधार पर बदलती रहती है। 


कौन सी ऊँगली में कोनसा ज्योतिषीय रत्न धारण करना चाहिए ?


पारद शिवलिंग किस रेट पर मिलता है ? (Parad shivling price)

जैसा कि हमने बताया असली पारद शिवलिंग का रेट बाजार में मिलने वाले तरल पारे के रेट के हिसाब से बदलता  रहता  है  आजकल इसका रेट 15 से 50 rs ग्राम तक चल रहा है।  


पारद शिवलिंग के फायदे ( Parad Shivling benefits in hindi )

1. यह घर परिवार के वातावरण को सुखमय और समृद्ध बनाता है।

2. पारद शिवलिंग कि पूजा करने से सिर्फ भगवान शिव की  किरपा ही प्राप्त नहीं होती बल्कि माता लक्ष्मी की भी कृपा बरसती है।

3. इसकी निरंतर पूजा करने से कुंडली में मौजूद सभी तरह के गृह दोष समाप्त हो जाते हैं।

4. पारद शिवलिंग की पूजा करने से मोक्ष की प्राप्ति का द्वार अपने आप खुल जाता है ।

5. चरक सहिंता समेत अन्य कई पुराणों में यह उल्लेख मिलता है कि असली पारद शिवलिंग तंत्र-मंत्र, नकारात्मक और बुरी शक्तियों के प्रभावों को समाप्त कर देता है।

6. जिस घर में पारद शिवलिंग होता है वहां भगवान शिव, माता लक्ष्मी और कुबेर देवता तीनों का वास माना जाता है।

7. पारद शिवलिंग अपने आप में शुद्ध होता है इसे शुद्ध करने की कोई आवश्यकता नहीं होती है 


कुंडली में 5 खतरनाक दोष और उनके समाधान (5 Dangerous Doshas In Kundli )


क्या घर में पारद शिवलिंग रख सकते है ?

जी हाँ, आप  घर के अंदर पारद शिवलिंग को रख सकते है।  पारद शिवलिंग अपने आप में शुद्ध होता है और इसे किसी प्राण प्रतिष्ठा की जरुरत नहीं होती है। इसे रखने से घर में सुख शांति बानी रहती है।  


असली पारद शिवलिंग की कीमत क्या है ?

असली पारद शिवलिंग 15 से 50 rs प्रति ग्राम मिल जाता है।  अगर पारे का रेट बढ़ेगा तो इसका रेट भी बढ़ जायेगा।  क्यों की इसका आधार पारा ही है। 


पारद शिवलिंग कहा से ख़रीदे ?

यदि आप असली पारद शिवलिंग खरीदने के इच्छुक है तो आप हमारी वेबसाइट www.gemshub.in  से खरीद सकते है।  


इस दिवाली धन को आकर्षित करने और देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने के उपाय


क्या पारद शिवलिंग पर जल चढ़ा सकते है ?

पारद शिवलिंग भगवन शिव का अंश माना जाता है इसके दर्शन होना ही अपने आप में एक बड़ी बात होती है शास्त्रों में पारद शिवलिंग पर जल चढ़ाने के लिए मना किया गया है क्यों कि पारद शिवलिंग सिर्फ दर्शनीय होता है।  लेकिन श्रद्धालु इसके ऊपर जल चढ़ाये बिना रह नहीं पाते है तो ऐसे में आप एक बात ध्यान रखे। जल चढाने के तुरंत बाद ही पारद शिवलिंग को सूती कपडे से साफ़ कर दे। इसके ऊपर किसी तरह की पानी की बूँद नहीं रेहनी चाहिए।  


घर में पारद शिवलिंग कितना बड़ा रखना चाहिए ?

आप घर के अंदर जितना बड़ा चाहे उतना बड़ा पारद शिवलिंग रख सकते है। आप छोटे से छोटा और बड़े से बड़ा पारद शिवलिंग रख सकते है।  पारद शिवलिंग वजन में काफी भारी होता है ।  जिस वजह से 2 इंच का आकार भी 450 - 500 ग्राम के आस पास होता है। सामान्य रूप से श्रद्धालु हमसे पूछते है कि घर के लिए  किस साइज का पारद शिवलिंग लेना चाहिए ! तो हमारा बस यही उत्तर होता है जितना बड़ा आप लेना चाहे उतना बड़ा आप ले सकते है।  ये किसी भी शास्त्र में नहीं लिखा है कि पारद शिवलिंग अंगूठे से बड़ा नहीं होना चाहिए या छोटा नहीं होना चाहिए।  आप अपनी श्रद्धा अनुसार पारद शिवलिंग रख सकते है। 


घर में पारद शिवलिंग की प्राण प्रतिष्ठा कैसे करे ?


पारद शिवलिंग अपने आप में शुद्ध होता है शास्त्रों के अनुसार पारद शिवलिंग की प्राण प्रतिष्ठा  नहीं होती है।