जंगली सूअर के दांत का लॉकेट धारण करने के चमत्कारी फायदे और सिद्ध करने की विधि।।

शूकर-दन्त ताबीज़ कैसे बनाया जाए, शूकर-दन्त ताबीज़ के फायदे|




तंत्र साधना या तांत्रिक क्रिया में बहुत से जानवर के शरीर के अंग इस्तेमाल होते हैं। जैसे की बिल्ली की जेर, जो हमे बिल्ली से मिलती है , उल्लू के नाख़ून, काले हिरन के सींग, शेर के नाख़ून, और सूअर का दांत । तांत्रिक क्रिया में इन सब का बड़ा महत्व है और कानूनी तोर पर ये प्रतिबंधित है इसी वजह से ये वस्तुए काफी ऊंची  कीमत में मिलती है ।


जंगली सुअर के एक दांत की कीमत कई लाखो रुपए तक जाती है । तांत्रिक क्रिया की वजह से ही जंगली सुअर के दांत की डिमांड मार्किट में होती है और इसी वजह से इसकी कीमत लाखो रुपए में जाती है । ऐसा माना जाता है कि व्यापार में लाभ के लिए सूअर दंत का ताबीज धारण करने से लाभ ही लाभ मिलता है। कुछ लोग ऐसा भी मानते हैं कि यदि व्यापार या कार्यस्थल पर किसी  सूअर दंत को बाहर लगाते हैं तो काफी लाभ होता है। इस  बात पर विश्वास और यकीन करने वाले जंगली सुअर के दांत की मुँह मांगी कीमत देने को तैयार हो जाते है ।


पुराना रत्न धारण करने के नुकसान (Disadvantage of used gemstones)


वैसे तो किसी भी जानवर को मारकर उससे तंत्र क्रिया करना ठीक नहीं होता है ये एक महापाप है । पुराने लोग स्वतः ही मरे हुए जानवर के अंगों से तरह तरह की  तंत्र साधना किया करते थे इसलिए इन जानवरो के अंग बाजार में मिलना काफी दुर्लभ था पर लगातार बाजार में इनकी मांग बढ़ने से  इनके अंगों के लिए इनका शिकार होने लगा है जो एक तरह से जानवरो पर हिंसा है शिकार किये हुए जानवर के अंग पर तंत्र करना  उतना अच्छा काम नहीं करता जितना की प्राकृतिक रूप से मरे हुए जानवर के ऊपर करता है ।


शुक्र-दन्त का मतलब सूअर के दांत से हैं। सूअर जिसे संस्कृत में वराह  भी कहते हैं ! यह एक तरह से पृथ्वी पर  निंदित प्राणी है किंतु तंत्र साधना और अध्यात्म में इसका बड़ा महत्व माना जाता हैं। स्वयं भगवान श्री विष्णु जी ने वराह का अवतार लेकर पृथ्वी को पाताल से निकाला था। सूअर-दन्त का प्रयोग लॉकेट के रूप में किया जाता है । सूअर  दन्त से वशीकरण प्रयोग किये जाते हैं और व्यापार को बढ़ने के लिए तथा भूत प्रेत जैसी बाधा को दूर करने के लिए भी इसका उपयोग होता है।


10 फायदे जिनकी वजह से रोजाना करना चाहिए सेक्स | 10 Major Benefits of Sex


शूकर-दन्त का लॉकेट यानि ताबीज के लाभ 


शूकर-दन्त का बना हुआ ताबीज पहनने से किसी भी प्रकार की अभिचार कर्म का प्रभाव नहीं होता एवं सर्वत्र लाभ एवं विजय की प्राप्ति होती है।


शूकर-दन्त ताबीज़ कैसे बनाया जाए


सूअर के दांत का टोटका तभी सफल होगा जब आपको उसका दांत कहीं से सहज में ही प्राप्त कर ले  अर्थात उसे आपको मारके दांत नहीं लेना है | प्रयोग करने वालो को ये भी ध्यान रखना चाहिए कि सूअर दन्त  किसी तरह से खंडित ना हो अन्यथा परिणाम सही नहीं दिखेगा | इस दन्त को प्राप्त करने के बाद इसकी शुद्धि की जाती है और फिर मंत्रो द्वारा इसे सिद्ध किया जाता है, सिद्ध होने के बाद इसे गले में धारण किया जाता है, तभी सही मायने में इससे फायदा देखने को मिलता है|


parad shivling benefits

पारद शिवलिंग (Parad Shivling) क्या होता है? और असली होने की पहचान क्या है ?


आइये जानते हैं सूअर दन्त के विभिन्न फायदों के बारे में:-


अगर बिना हिंसा किये आपको सूअर का दांत आसानी से मिल जाये तो आप इसका प्रयोग करके अनेक फायदे उठा सकते हैं। 


शूकर-दन्त ताबीज़ के फायदे


तांत्रिक विद्या के जानकार लोग सूअर दन्त से वशिकरण का प्रयोग भी करते हैं, कहा जाता है कि अगर सूअर दन्त को अच्छे से सिद्ध करके अपने पास रख लिया जाए तो ऐसे में धारण करने वाले व्यक्ति का प्रभाव अपने आप बढ़ने लगता है और इस बात का प्रमाण हमे देखने को भी मिलता है, दशको से कुछ समाज में बच्चो को सूअर के दांत का ताबीज पहनाने की  प्रथा चली आ रही है और सूअर दन्त की वजह से  उनको  नजर से बचाव होता है | अगर किसी को बहुत डर लगता हो तो इसका ताबीज पहनने से डर नहीं लगता है। अगर किसी को बार बार बुरी नजर लगती हो  तो सूअर के दांत के  ताबीज प्रयोग किया जा सकता है | शत्रु को दबाने के लिए भी इसका प्रयोग किया जा सकता है | आर्थिक स्थिति को भी सुधारने में फायदा करता है सूअर दन्त | और भी मन जाता है की सूअर दन्त बंधन दोष से भी मुक्त कर सकता है |



अगर कोई जातक घर में लगातार क्लेश से परेशान हो, पैसा हाथ में  नहीं टिकता हो, कोई शत्रु बार-बार परेशान कर रहा हो या फिर बुरी नजर से आपका घर और कारोबार नष्ट हो रहा हो तो ऐसे में आप शुक्र दन्त का प्रयोग कर सकते हैं और प्रयोग के बाद आये हुए बदलाव को  आप खुद ही महसूस कर सकते हैं | यदि किसी को लगता है कि उसके ऊपर काला जादू हो रखा है तो ऐसे में व्यक्ति सूअर के दांत का प्रयोग कवच के रूप में कर सकता है |


शुक्र दन्त को सिद्ध करने कि आसान विधि -:


आप किसी भी ज्योतिष से शुभ और शक्तिशाली मुहर्त निकलवाये और फिर इसका शुभ मुहर्त में पूजन करे | लेकिन पूजन से पहले  इसे अच्छी तरह से पानी से रगड़ रगड़ कर साफ़ करे, जिससे इसमें कोई भी गंदगी ना रहे |


फिर सूअर के दांत को सामने रख कर उसकी पंचोपचार पूजा (अर्थात्, गंध लगाना, फूल चढ़ाना, धूप (लोबान), आरती और नैवेद्य अर्पित करना ) करे और साथ में ही भगवान श्री विष्णु  जी की पूजा करे और  जितना हो सके शूकर मन्त्र का जाप  करे और फिर दांत पे 7 बार फूंक मार दे |


“ॐ ह्रीं क्लीं श्रीं वाराह-दन्ताय भैरवाय नमः।”


अब सिद्ध होने के बाद इसे किसी कपडे में बाँध कर आप अपने पास रख सकते हैं  और अगर आप इसे ताबीज के रूप में पहनना चाहते हो तो पहले किसी भी सुनार से सूअर दन्त का ताबीज बनवा ले और फिर इसकी पूजा करके इसे पहने |




अगर आपके घर को बार-बार बुरी नजर लग रही हो तो ऐसे में आप सूअर के दांत को सिद्ध करके घर के दरवाजे के ऊपर लटका दीजिये, इससे सुरक्षा होगी | 


अगर धन अनावश्यक रूप से ज्यादा खर्च हो रहा हो तो ऐसे में आप सूअर दन्त को सिद्ध करके अपने तिजोरी में रख दीजिये |


अगर किसी भी व्यक्ति को बार बार  बुरी नजर लग रही हो तो ऐसे में वह व्यक्ति  सूअर के दांत का ताबीज बना के पहन ले  |


कई बार ऐसा भी देखा गया है कि पति-पत्नी के बीच बिना किसी बात के झगडा शुरू हो जाता है इस झगडे का कोई भी कारण नहीं होता है ऐसा तभी होता है जब रिश्ते को बुरी नजर लग जाती है, ऐसे में एक सूअर का दांत बिस्तर के नीचे रख दे, इससे आपको फायदा महसूस होगा |


अगर किसी व्यक्ति को ऐसा लगता है कि उसके घर पे भूत प्रेत का साया है और घर में सभी लोग डरे हुए रहते हैं, बार बार बीमार पड़ते हैं तो ऐसे स्थिति में घर के चारो कोनो में सिद्ध किये हुए सूअर के दांत को गाड़ दीजिये, इससे आपका पूरा घर सुरक्षित हो जायेगा|




अगर घर का द्वार दक्षिण दिशा की ओर हो और इसके कारण घरवाले परेशान हो रहे हो तो ऐसे में आपको सूअर का दांत लाल कपडे में बाँध के दरवाजे के ऊपर लटका देना चाहिए |


कोई भी प्रयोग करने से पहले मंत्र को सिद्ध करना चाहिए और उसके लिए सबसे अच्छा समय दिवाली, होली, नवरात्री है, आप ऐसे समय में कोई शुभ और शक्तिशाली मुहर्त देख कर मंत्रो के ज्यादा से ज्यादा जाप कर सकते है।